Baghair uske ab aaram bhi nahi aata shayari

Published in Category Romantic Shayari on 31-Oct-2018 04:26 PM

Baghair uske ab aram bhi nahi ataa
vo sakhs jiska mujhe nam bhi nahi ataa
uski sakl mujhe chand me bhi nazar aaye
vo mahrukh jo love-ye-baam bhi nahi ataa
Karunga kya jo mohabbat me ho gaya nakaam
mujhe to aur koi kam bhi nahi ataa
chura ke khwab vo aankhon ko rahan rakhta hai
aur uske sar koi iljam bhi nahi ataa

Baghair uske ab aaram bhi nahi aata shayari

बगैर उसके अब आराम भी नहीं आता
वो सख्स जिसका मुझे नाम भी नहीं आता
उसकी सकल मुझे चाँद में भी नज़र आये
वो महरुख़ जो लव-ये-बाम भी नहीं आता
करूँगा क्या जो मोहब्बत में हो गया नाकाम
मुझे तो और कोई काम भी नहीं आता
चुरा के ख्वाब वो आँखों को रहन रखता है
और उसके सर कोई इल्जाम भी नहीं आता

Share this on: