Mere jine ke liye tera armaan hi kafi hai

Published in Category Love Shayari on 03-Dec-2018 06:27 PM

Mere jine k liye tere armaan hi kafi hai,
dil ke kalam se likhe ye dastan hi kafi hai,
tir-e-talwar ki tumhe kya zarurat
qatl arne ke liye teri muskan hi kafi hai,

Mere jine ke liye tera armaan hi kafi hai

मेरे जीने क लिए तेरे अरमान ही काफी है,
दिल के कलम से लिखे ये दास्ताँ ही काफी है,
तीर-ऐ-तलवार की तुम्हे क्या ज़रूरत
क़त्ल करने के लिए तेरी मुस्कान ही काफी है,

Share this on: